New Shayari

कृष्ण भक्ति शायरी | बाल कृष्ण शायरी | Krishna Bhakti Shayari in Hindi

Krishna Bhakti Shayari in Hindi: Today we are going to share with you the Shayari of Shri Krishna Ji in this article, which if you like very much then definitely share it with your friends. What Lord Krishna said in the Avni Gita has been true to date. By worshiping Lord Krishna, all the sins of the mind are removed. Today we are sharing you with the poetry of Shri Krishna Ji.

Krishna Bhakti Shayari in Hindi

Krishna Bhakti Shayari in Hindi

जीवनरूपी नाव के हम है खिवैया,

अगर मजधार में डूबने लगे आपकी नैया,

तो डरना नहीं होसला रखना,

पार कराएगा आपको कीशन कनैया

jivanrupi naav ke ham hai khivaiyaa,

agar majdhaar men dubne lage aapki naiyaa,

to darnaa nahin hoslaa rakhnaa,

paar karaaagaa aapko kishan kanaiyaa



मन तुलसी का दास हैं, वृन्दावन हो धाम,

साँस-साँस में राधा बसे, रोम-रोम में श्याम.

man tulsi kaa daas hain, vriandaavan ho dhaam,

saans-saans men raadhaa base, rom-rom men shyaam.

Radha Krishna Shayari in Hindi Text


मुझे चरणों से लगा ले.

मेरे श्याम मुरलीवाले.

मेरी सांस-सांस में तेरा.

है नाम मुरलीवाले.

जय श्री कृष्ण

mujhe charnon se lagaa le.

mere shyaam murlivaale.

meri saans-saans men teraa.

hai naam murlivaale.

jay shri kriashn


जब गमों ने तुमको घेरा हो, तुम हाल श्याम

को सुना देना…!!!

जब दुनिया तुमसे मुँह मोड़े, तुम अपने श्याम

को मना लेना..!!!

मेरे श्याम तो करूणा के सागर हैं, तुम डुबकी

उसमें लगा लेना..!!!

जय श्री कृष्ण

jab gamon ne tumko gheraa ho, tum haal shyaam

ko sunaa denaa…!!!

jab duniyaa tumse munh mode, tum apne shyaam

ko manaa lenaa..!!!

mere shyaam to karunaa ke saagar hain, tum dubki

usmen lagaa lenaa..!!!

jay shri kriashn

राधा-कृष्ण शायरी हिंदी में


"अगर आप अपने लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने में असफल हो जाते हैं,

तो अपनी रणनीति बदलिए, न कि लक्ष्‍य। ";

"agar aap apne laksh‍y ko praap‍t karne men asaphal ho jaate hain,

to apni ranniti badalia, n ki laksh‍y। ";


"क्रोध से भ्रम पैदा होता है

 भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है

 जब बुद्धि व्यग्र होती है तब तर्क नष्ट हो जाता है

 जब तर्क नष्ट होता है

 तब व्यक्ति का पतन हो जाता है.";

"krodh se bhram paidaa hotaa hai

 bhram se buddhi vyagr hoti hai

 jab buddhi vyagr hoti hai tab tark nasht ho jaataa hai

 jab tark nasht hotaa hai

 tab vyakti kaa patan ho jaataa hai.";

Radha Krishna Shayari in Hindi 


"ऐसा कोई नहीं,

 जिसने भी इस संसार मे अच्छा कर्म किया हो और

 उसका बुरा अंत हुआ हो,

 चाहे इस काल में हो या आने वाले काल में।"

"aisaa koi nahin,

 jisne bhi es sansaar me achchhaa karm kiyaa ho aur

 uskaa buraa ant huaa ho,

 chaahe es kaal men ho yaa aane vaale kaal men।"


"फल की अभिलाषा छोड़ कर,

कर्म करने वाला पुरूष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।"

"phal ki abhilaashaa chhod kar,

karm karne vaalaa purush hi apne jivan ko saphal banaataa hai।"


"मन अशांत है और उसे नियंत्रित करना कठिन है,

 लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है।";

"man ashaant hai aur use niyantrit karnaa kathin hai,

 lekin abhyaas se ese vash men kiyaa jaa saktaa hai।"

Krishna Bhakti Shayari in Hindi


"अपने कर्म पर अपना दिल लगाएं,

 न की उसके फल पर।";

"apne karm par apnaa dil lagaaan,

 n ki uske phal par।";


"किसी दूसरे के जीवन के साथ,पूर्ण रूप से जीने से अच्छा है,

कि हम अपने स्वंय के भाग्य के अनुसार अपूर्ण जियें।";

"kisi dusre ke jivan ke saath,purn rup se jine se achchhaa hai,

ki ham apne svany ke bhaagy ke anusaar apurn jiyen।";

कृष्ण भक्ति शायरी

"एक उपहार तभी अच्छा और पवित्र लगता है, 

जब वह दिल से किसी सही व्यक्ति को सही समय और सही जगह पर दिया जाये,

और जब उपहार देने वाला व्यक्ति का दिल उस उपहार के बदले,

कुच्छ पाने की उम्मीद ना रखता हो।";

"ek uphaar tabhi achchhaa aur pavitr lagtaa hai, 

jab vah dil se kisi sahi vyakti ko sahi samay aur sahi jagah par diyaa jaaye,

aur jab uphaar dene vaalaa vyakti kaa dil us uphaar ke badle,

kuchchh paane ki ummid naa rakhtaa ho।";


"आत्म-ज्ञान की तलवार से काटकर,

अपने ह्रदय से अज्ञान के संदेह को अलग कर दो,

 अनुशाषित रहो, उठो।";

"aatm-jyaan ki talvaar se kaatakar,

apne hraday se ajyaan ke sandeh ko alag kar do,

 anushaashit raho, utho।";

Shri Krishna Shayari | श्री कृष्णा शायरी

"मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है,

जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।";

"manushy apne vishvaas se nirmit hotaa hai,

jaisaa vo vishvaas kartaa hai vaisaa vo ban jaataa hai।";


"जो कोई भी जिस किसी भी देवता की पूजा,

विश्वास के साथ करने की इच्छा रखता है,

मैं उसका विश्वास उसी देवता में दृढ कर देता हूँ।";

"jo koi bhi jis kisi bhi devtaa ki pujaa,

vishvaas ke saath karne ki echchhaa rakhtaa hai,

main uskaa vishvaas usi devtaa men driadh kar detaa hun।";

Jai Shree Krishna Status Shayari Quotes in Hindi

"लोग आपके अपमान के बारे में हमेशा बात करेंगे,

 सम्मानित व्यक्ति के लिए अपमान मृत्यु से भी बदतर है।";

"log aapke apmaan ke baare men hameshaa baat karenge,

 sammaanit vyakti ke lia apmaan mriatyu se bhi badatar hai।";


"हम जो देखते हैं वो हम हैं,

और हम जो हैं हम उसी वस्तु को निहारते हैं,

इसलिए जीवन मे हमेशा अच्छी और सकारत्मक चीज़ो को देखें और सोचें।";

"ham jo dekhte hain vo ham hain,

aur ham jo hain ham usi vastu ko nihaarte hain,

esalia jivan me hameshaa achchhi aur sakaaratmak chijo ko dekhen aur sochen।";


"केवल मन ही,

किसी का मित्र और शत्रु होता है।";

"keval man hi,

kisi kaa mitr aur shatru hotaa hai।";


"जो चीज हमारे हाथ में नहीं है,

उसके विषय में चिंता करके कोई फायदा नहीं।";

"jo chij hamaare haath men nahin hai,

uske vishay men chintaa karke koi phaaydaa nahin।";

Radha Krishna Shayari, राधा कृष्ण शायरी

"जब जब संसार में धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है,

तब – तब अच्छे लोगों की रक्षा, दुष्टों का संहार, और धर्म की स्थापना करने के लिए,

मैं हर युग में अवतरित होता हूँ|";

"jab jab sansaar men dharm ki haani aur adharm ki vriaddhi hoti hai,

tab – tab achchhe logon ki rakshaa, dushton kaa sanhaar, aur dharm ki sthaapnaa karne ke lia,

main har yug men avatarit hotaa hun|";


"श्रेष्ठ मनुष्य जैसा आचरण करता है,

दूसरे लोग भी वैसा ही आचरण करते हैं।,

वह जो प्रमाण देता है,

जनसमुदाय उसी का अनुसरण करता है।";

"shreshth manushy jaisaa aacharan kartaa hai,

dusre log bhi vaisaa hi aacharan karte hain।,

vah jo prmaan detaa hai,

janasamudaay usi kaa anusaran kartaa hai।";

भगवान श्री कृष्ण की शायरी

"दुःख से जिसका मन परेशान नहीं होता,

सुख की जिसको आकांक्षा नहीं होती,

तथा जिसके मन में राग, भय और क्रोध नष्ट हो गए हैं,

ऐसा मुनि आत्मज्ञानी कहलाता है।";

"duahkh se jiskaa man pareshaan nahin hotaa,

sukh ki jisko aakaankshaa nahin hoti,

tathaa jiske man men raag, bhay aur krodh nasht ho gaye hain,

aisaa muni aatmajyaani kahlaataa hai।";


"जो ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है,

वही सही मायने में देखता है.";

"jo jyaan aur karm ko ek rup men dekhtaa hai,

vahi sahi maayne men dekhtaa hai."


Tag: कृष्ण भक्ति शायरी, बाल कृष्ण शायरी, Krishna Bhakti Shayari in Hindi

Post a Comment

0 Comments