New Shayari

देशभक्ति शायरी 2021 | Desh Bhakti shayari in Hindi | देशभक्ति शायरी हिन्दी

Desh Bhakti shayari in Hindi : Best Shayari for Desh Bhakti, New Desh Bhakti Shayari, Best Deshbhakti Shayari,Deshbhakti Hindi Shayari, Latest Deshbhakti Sms, Independence Day Sms, Patriotic Shayari in Hindi, Republic Day Sms. We are providing a Huge Collection of the Latest Desh Bhakti Shayari 2021. I hope you liked this Desh Bhakti Shayari in the Hindi Image collection.

 Desh Bhakti shayari in Hindi | देशभक्ति शायरी हिन्दी 


चलो फिर से आज वह नज़ारा याद कर ले, शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद करले, जिसमे बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे देशभक्तो के खून की वो धारा याद करले..||

chalo phir se aaj vah njaaraa yaad kar le, shahidon ke dil men thi vo jvaalaa yaad karle, jisme bahakar aajaadi pahunchi thi kinaare pe deshabhakto ke khun ki vo dhaaraa yaad karle..||


इश्क़ तो करता हैं हर कोई मेहबूब पे मरता हैं हर कोई, कभी वतन को मेहबूब बना कर देखो तुझ पे मरेगा हर कोई……!!!!

eshk to kartaa hain har koi mehbub pe martaa hain har koi, kabhi vatan ko mehbub banaa kar dekho tujh pe maregaa har koi……!!!!


Best Shayari for Desh Bhakti


ना पूछो ज़माने को, क्या हमारी कहानी हैं हमारी पहचान तो सिर्फ ये हैं की हम सिर्फ हिंदुस्तानी हैं…!!

naa puchho jmaane ko, kyaa hamaari kahaani hain hamaari pahchaan to sirph ye hain ki ham sirph hindustaani hain…!!


सदा ही लहराता रहे ये तिरंगा हमारा सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा गूंज उठता हैं जहां में चारो ओर….. लोगो की जुबान से वन्दे मातरम का नारा वतन की सर बुलंदी के लिए ये दिल क्या ख़ुशी ख़ुशी मिट जाए ये जिस्म भी हमारा जो शहीद हो गए वो अमर कहलाये अक्सर उनकी कुरबानियों के आगे सदा नमन हमारा इस देश के वासी बखूबी ये जानते हैं की सोने की चिड़िया कहलाता प्यारा देश हमारा

sadaa hi lahraataa rahe ye tirangaa hamaaraa saare jahaan se achchhaa hindustaan hamaaraa gunj uthtaa hain jahaan men chaaro or….. logo ki jubaan se vande maataram kaa naaraa vatan ki sar bulandi ke lia ye dil kyaa khushi khushi mit jaaa ye jism bhi hamaaraa jo shahid ho gaye vo amar kahlaaye aksar unki kurbaaniyon ke aage sadaa naman hamaaraa es desh ke vaasi bakhubi ye jaante hain ki sone ki chidiyaa kahlaataa pyaaraa desh hamaaraa


वतन हमारा ऐसे ना छोड़ पाए कोई, रिश्ता हमारा ऐसे ना तोड़ पाए कोई, दिल हमारे एक है एक है हमारी जान, हिंदुस्तान हमारा हैं हम हैं इसकी शान.

vatan hamaaraa aise naa chhod paaa koi, rishtaa hamaaraa aise naa tod paaa koi, dil hamaare ek hai ek hai hamaari jaan, hindustaan hamaaraa hain ham hain eski shaan.


 Deshbhakti Hindi Shayari


मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा ये मुल्क मेरी जान है इसकी रक्षा के लिए मेरा दिल और जां कुर्बान है..||

main mulk ki hiphaajat karungaa ye mulk meri jaan hai eski rakshaa ke lia meraa dil aur jaan kurbaan hai..||


शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,

वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा

shahidon ki chitaaon par lagenge har baras mele,

vatan pe mar mitnevaalon kaa baaki yahi nishaan hogaa


तिरंगा हमारा हैं शान- ए-जिंदगी

वतन परस्ती हैं वफ़ा-ए-ज़मी

देश के लिए मर मिटना कुबूल हैं हमें

अखंड भारत के स्वपन का जूनून हैं हमें..!!

tirangaa hamaaraa hain shaan- aye-jindgi

vatan parasti hain vfaa-aye-jmi

desh ke lia mar mitnaa kubul hain hamen

akhand bhaarat ke svapan kaa junun hain hamen..!!


मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ

यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,

मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,

तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

main bhaaratavarsh kaa haradam amit sammaan kartaa hun

yahaan ki chaandni mitti kaa hi gungaan kartaa hun,

mujhe chintaa nahin hai svarg jaakar moksh paane ki,

tirangaa ho kaphan meraa, bas yahi armaan rakhtaa hun।


New Desh Bhakti Shayari


कुछ नशा तिरंगे की आन का है,

कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,

हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,

नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है !!

kuchh nashaa tirange ki aan kaa hai,

kuchh nashaa maatribhumi ki maan kaa hai,

ham lahraayenge har jagah ye tirangaa,

nashaa ye hindustaan ki shaan kaa hai !!


खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,

मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,

करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,

तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…

khushansib hain vo jo vatan par mit jaate hain,

marakar bhi vo log amar ho jaate hain,

kartaa hun unhen salaam aye vatan pe mitne vaalon,

tumhaari har saans men tirange kaa nasib bastaa hai…


जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,

जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है !!

jo ab tak naa khaulaa, vo khun nahin paani hai,

jo desh ke kaam naa aaye, vo bekaar javaani hai !!


जब देश में थी दिवाली….. वो खेल रहे थे होली…

जब हम बैठे थे घरो में…… वो झेल रहे थे गोली…

क्या लोग थे वो अभिमानी… है धन्य उनकी जवानी………

जो शहीद हुए है उनकी… ज़रा याद करो कुर्बानी…

ए मेरे वतन के लोगो… तुम आँख में भर लो पानी..!!

jab desh men thi divaali….. vo khel rahe the holi…

jab ham baithe the gharo men…… vo jhel rahe the goli…

kyaa log the vo abhimaani… hai dhany unki javaani………

jo shahid hua hai unki… jraa yaad karo kurbaani…

aye mere vatan ke logo… tum aankh men bhar lo paani..!!


Latest Deshbhakti Sms, Best Deshbhakti Shayari


सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा

हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा।

परबत वो सबसे ऊँचा

हमसाया आसमाँ का

वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा !!

saare jahaan se achchhaa hindustaan hamaaraa

ham bulabulen hain uski vo gulasitaan hamaaraa।

parabat vo sabse unchaa

hamsaayaa aasmaan kaa

vo santri hamaaraa vo paasbaan hamaaraa !!


ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा

ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा

पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये !!

ai mere vatan ke logon tum khub lagaa lo naaraa

ye shubh din hai ham sab kaa lahraa lo tirangaa pyaaraa

par mat bhulo simaa par viron ne hai praan gnvaaa

kuchh yaad unhen bhi kar lo jo laut ke ghar n aaye !!


लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,

मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा

मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,

मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

likh rahaa hun main ajaamm jiskaa kal aagaaj aayegaa,

mere lahu kaa har ek katraa ekanlaab laaaigaa

main rahun yaa naa rahun par ye vaadaa hai tumse meraa ki,

mere baad vatan par marne vaalon kaa sailaab aayegaa


Independence Day Sms, देशभक्ति शायरी हिन्दी 

ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,

नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!

jmaane bhar men milte hain aashik kayi, magar vatan se khubsurat koi sanam nahin hotaa,

noton men bhi lipat kar, sone men simatakar mare hain shaasak kayi, magar tirange se khubsurat koi kfan nahin hotaa..!!


इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना

रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना

लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने

ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना !

etni si baat havaaon ko bataaye rakhnaa

raushni hogi chiraagon ko jalaaye rakhnaa

lahu dekar ki hai jiski hiphaajat hamne

aise tirange ko hameshaa dil men basaaye rakhnaa !


Patriotic Shayari in Hindi


आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे

शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे

बची हो जो एक बूंद भी लहू की

तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे

aajaadi ki kabhi shaam nahin hone denge

shahidon ki kurbaani badnaam nahin hone denge

bachi ho jo ek bund bhi lahu ki

tab tak bhaarat maataa kaa aanchal nilaam nahin hone denge


आन देश की शान देश की, देश की हम संतान हैं।

तीन रंगों से रंगा तिरंगा, अपनी ये पहचान हैं..!!

aan desh ki shaan desh ki, desh ki ham santaan hain।

tin rangon se rangaa tirangaa, apni ye pahchaan hain..!!


भारत देश हमको जान से प्यारा है हिन्दुस्तानी नाम हमारा है।

न बर्षा में गलें न सर्दी से डरें न गर्मी से तपें ! हम फौजी इस देश की शान है..!!

bhaarat desh hamko jaan se pyaaraa hai hindustaani naam hamaaraa hai।

n barshaa men galen n sardi se daren n garmi se tapen ! ham phauji es desh ki shaan hai..!!


कुछ नशा तिरंगे की आन का है ! कुछ नशा मातृभूमि की शान का है !

हम लहराएंगे हर जगह ये तिरंगा ! नशा ये हिंदुस्तान की शान का है..!!

kuchh nashaa tirange ki aan kaa hai ! kuchh nashaa maatribhumi ki shaan kaa hai !

ham lahraaange har jagah ye tirangaa ! nashaa ye hindustaan ki shaan kaa hai..!!


जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं, माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं, देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं..!!

jinhen hai pyaar vatan se, vo desh ke lia apnaa lahu bahaate hain, maan ki charnon men apnaa shish chdhaakar, desh ki aajaadi bachaate hain, desh ke lia hnaste-hnaste apni jaan lutaate hain..!!


Desh Bhakti Shayari 2021 in hindi


सनम को छोड़ के देख लेना, कभी शहीदों को याद करके देख लेना !

कोई महबूब नहीं है वतन जैसा यारो, देश से कभी इश्क करके देख लेना..!!

sanam ko chhod ke dekh lenaa, kabhi shahidon ko yaad karke dekh lenaa !

koi mahbub nahin hai vatan jaisaa yaaro, desh se kabhi eshk karke dekh lenaa..!!


कर जस्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !

हर पत्ते को मार गिरायेंगे जो हमसे देश बटवायेंगे..!!

kar jasbe ko buland javaan, tere pichhe khdi aavaam !

har patte ko maar giraayenge jo hamse desh batvaayenge..!!


ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई, मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,

नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हैं शासक कई, मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता..!!

jmaane bhar men milte hain aashik kayi, magar vatan se khubsurat koi sanam nahin hotaa,

noton men bhi lipat kar, sone men simatakar mare hain shaasak kayi, magar tirange se khubsurat koi kfan nahin hotaa..!!


Desh Bhakti Shayari | 2 line

वतन हमारा मिसाल है मोहब्बत की , तोड़ता है दीवार नफरत की , मेरी खुश नसीबी है मिली जिंदगी इस चमन में ,भुला ना सके कोई इसकी खुशबू सातों जन्मों में..!!

vatan hamaaraa misaal hai mohabbat ki , todtaa hai divaar napharat ki , meri khush nasibi hai mili jindgi es chaman men ,bhulaa naa sake koi eski khushbu saaton janmon men..!!


सीनें में ज़ुनू, ऑखों में देंशभक्ति, की चमक रखता हुँ,

दुश्मन के साँसें थम जाए, आवाज में वो धमक रखता हुँ..!!

sinen men junu, aukhon men denshabhakti, ki chamak rakhtaa hun,

dushman ke saansen tham jaaa, aavaaj men vo dhamak rakhtaa hun..!!


करता हूँ भारत माता से गुजारिश कि तेरी भक्ति के सिवा कोई बंदगी न मिले,

हर जनम मिले हिन्दुस्तान की पावन धरा पर या फिर कभी जिंदगी न मिले..!!

kartaa hun bhaarat maataa se gujaarish ki teri bhakti ke sivaa koi bandgi n mile,

har janam mile hindustaan ki paavan dharaa par yaa phir kabhi jindgi n mile..!!


Desh Bhakti Shayari in Hindi Image

मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए

बस अमन से भरा यह वतन चाहिए

जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए

और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये

* जय-हिन्द *

mujhe naa tan chaahia, naa dhan chaahia

bas aman se bharaa yah vatan chaahia

jab tak jindaa rahun, es maatri-bhumi ke lia

aur jab marun to tirangaa kaphan chaahiye

* jay-hind *


गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है

सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है

दिल से तुमको नमन हैं करते

ये आजाद वतन जो दिलाया है

gulaam bane es desh ko aajaad tumne karaayaa hai

surakshit jivan dekar tumne karj apnaa chukaayaa hai

dil se tumko naman hain karte

ye aajaad vatan jo dilaayaa hai


Tag: देशभक्ति शायरी 2021, Desh Bhakti shayari in Hindi, देशभक्ति शायरी हिन्दी 

Post a Comment

0 Comments