New Shayari

Ishq Shayari 2021, Shayari on ishq, Ishq shayari in Hindi

Ishq Shayari in Hindi: Ishq Shayari is a part of love and romance. The word Ishq comes from the Hindi language and is related to romance. The Ishq Shayari hierarchy of this site is a very beautiful and beautiful concept to share the beauty of love and romance. If you are looking for some pain-filled or pain-filled Ishq Shayari, then two lines Ishq Shayari, Shayari on Ishq then take a look at this tremendous page of Ishq Shayari. Mimic these beautiful Shayari to send and share social media favors for his girlfriend/boyfriend or spouse and friends.

Ishq shayari in Hindi

Ishq shayari in Hindi
Ishq shayari in Hindi

उन गलियों से जब गुज़रे तो मंज़र अजीब था;

दर्द था मगर वो दिल के करीब था;

जिसे हम ढूँढ़ते थे अपनी हाथों की लकीरों में;

वो किसी दूसरे की किस्मत किसी और का नसीब था।

un galiyon se jab gujre to manjr ajib thaa;

dard thaa magar vo dil ke karib thaa;

jise ham dhundhte the apni haathon ki lakiron men;

vo kisi dusre ki kismat kisi aur kaa nasib thaa।


मेरे दिल में तेरे लिए प्यार आज भी है

माना कि तुझे मेरी मोहब्बत पर शक आज भी है

नाव में बैठकर जो धोए थे हाथ तूने

पूरे तालाब में फैली मेंहदी की महक आज भी है ।

mere dil men tere lia pyaar aaj bhi hai

maanaa ki tujhe meri mohabbat par shak aaj bhi hai

naav men baithakar jo dhoa the haath tune

pure taalaab men phaili menhdi ki mahak aaj bhi hai ।


Shayari On Ishq


आप तब तक ख़ुशी नहीं रह पाएंगे जब तक आप ये

खोजते रहेंगे की ख़ुशी कहा मिलेगी।

और आप तक ख़ुशी से जी नहीं पाएगे 

जब तक लेफे का मीनिंग खोजते रहेंगे।

aap tab tak khushi nahin rah paaange jab tak aap ye

khojte rahenge ki khushi kahaa milegi।

aur aap tak khushi se ji nahin paaage 

jab tak lephe kaa mining khojte rahenge।



तन्हाई मे मुस्कुराना भी इश्क़ है,

इस बात को सब से छुपाना भी इश्क़ है,

यूँ तो रातों को नींद नही आती

पर रातों को सो कर भी जाग जाना इश्क़ है

tanhaai me muskuraanaa bhi eshk hai,

es baat ko sab se chhupaanaa bhi eshk hai,

yun to raaton ko nind nahi aati

par raaton ko so kar bhi jaag jaanaa eshk hai



छोटी सी ज़िन्दगी में अरमान बहुत थे;

हमदर्द कोई न था इंसान बहुत थे;

मैं अपना दर्द बताता भी तो किसे बताता;

मेरे दिल का हाल जानने वाले अनजान बहुत थे।

chhoti si jindgi men armaan bahut the;

hamadard koi n thaa ensaan bahut the;

main apnaa dard bataataa bhi to kise bataataa;

mere dil kaa haal jaanne vaale anjaan bahut the।


Ishq Shayari


दर्द से हम अब खेलना सीख गए;

बेवफाई के साथ अब हम जीना सीख गए;

क्या बतायें किस कदर दिल टूटा है हमारा;

मौत से पहले हम कफ़न ओढ़ कर सोना सीख गए।

dard se ham ab khelnaa sikh gaye;

bevphaai ke saath ab ham jinaa sikh gaye;

kyaa bataayen kis kadar dil tutaa hai hamaaraa;

maut se pahle ham kfan odh kar sonaa sikh gaye।



तेरी याद में ज़रा आँखें भिगो लूँ;

उदास रात की तन्हाई में सो लूँ;

अकेले ग़म का बोझ अब संभलता नहीं;

अगर तू मिल जाये तो तुझसे लिपट कर रो लूँ।

teri yaad men jraa aankhen bhigo lun;

udaas raat ki tanhaai men so lun;

akele gm kaa bojh ab sambhaltaa nahin;

agar tu mil jaaye to tujhse lipat kar ro lun।


Ishq Mohabbat Shayari


मिसाल इसकी कहाँ है ज़माने में,

कि सारे खोने के ग़म पाये हमने पाने में,

वो शक्ल पिघली तो हर शय में ढल गयी जैसे,

अजीब बात हुई है उसे भुलाने में,

जो मुंतज़िर ना मिला वो तो हम हैं शर्मिंदा,

कि हमने देर लगा दी पलट के आने में।

misaal eski kahaan hai jmaane men,

ki saare khone ke gm paaye hamne paane men,

vo shakl pighli to har shay men dhal gayi jaise,

ajib baat hui hai use bhulaane men,

jo muntjir naa milaa vo to ham hain sharmindaa,

ki hamne der lagaa di palat ke aane men।



मैंने रब से कहा वो चली गयी मुझे छोड़कर,

उसकी जाने क्या मज़बूरी थी;

रब ने मुझसे कहा इसमें उसका कोई कसूर नहीं,

यह कहानी मैंने लिखी ही अधूरी थी।

mainne rab se kahaa vo chali gayi mujhe chhodkar,

uski jaane kyaa mjburi thi;

rab ne mujhse kahaa esmen uskaa koi kasur nahin,

yah kahaani mainne likhi hi adhuri thi।


Ishq Wali Shayari


तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर हैं कि मर जायें;

वही आँसू, वही आहें, वही ग़म है जिधर जायें;

कोई तो ऐसा घर होता जहाँ से प्यार मिल जाता;

वही बेगाने चेहरे हैं जहाँ जायें जिधर जायें।

teri duniyaa men jine se to behatar hain ki mar jaayen;

vahi aansu, vahi aahen, vahi gm hai jidhar jaayen;

koi to aisaa ghar hotaa jahaan se pyaar mil jaataa;

vahi begaane chehre hain jahaan jaayen jidhar jaayen।



तेरे इश्क की दुनिया में हर कोई मजबूर है;

पल में हँसी पल में आँसू ये चाहत का दस्तूर है;

जिसे मिली न मोहब्बत उसके ज़ख्मो का कोई हिसाब नहीं;

ये मोहब्बत पाने वाला भी दर्द से कहाँ दूर है।

tere eshk ki duniyaa men har koi majbur hai;

pal men hnsi pal men aansu ye chaahat kaa dastur hai;

jise mili n mohabbat uske jkhmo kaa koi hisaab nahin;

ye mohabbat paane vaalaa bhi dard se kahaan dur hai।


Mohabbat Ishq Shayari




टूटे हुए पैमाने में कभी जाम नहीं आता;

इश्क़ के मरीज़ों को कभी आराम नहीं आता;

ऐ दिल तोड़ने वाले तुमने यह नहीं सोचा;

कि टूटा हुआ दिल कभी किसी के काम नहीं आता।

tute hua paimaane men kabhi jaam nahin aataa;

eshk ke marijon ko kabhi aaraam nahin aataa;

ai dil todne vaale tumne yah nahin sochaa;

ki tutaa huaa dil kabhi kisi ke kaam nahin aataa।



तेरे हसीन तस्सवुर का आसरा लेकर;

दुखों के काँटे में सारे समेट लेता हूँ;

तुम्हारा नाम ही काफी है राहत-ए-जान को;

जिससे ग़मों की तेज़ हवाओं को मोड़ देता हूँ।

tere hasin tassavur kaa aasraa lekar;

dukhon ke kaante men saare samet letaa hun;

tumhaaraa naam hi kaaphi hai raahat-aye-jaan ko;

jisse gmon ki tej havaaon ko mod detaa hun।


Ishq Shayari Images


वक़्त बदला और बदली कहानी है;

संग मेरे हसीन पलों की यादें पुरानी हैं;

ना लगाओ मरहम मेरे ज़ख्मों पर;

मेरे पास उनकी बस यही एक बाकी निशानी है।

vkt badlaa aur badli kahaani hai;

sang mere hasin palon ki yaaden puraani hain;

naa lagaao maraham mere jkhmon par;

mere paas unki bas yahi ek baaki nishaani hai।




तुझे कोई और भी चाहे,इस बात से दिल थोडा थोडा जलता है,

पर फखर है मुझे इस बात पे कि,हर कोई मेरी पसंद पर मरता हैँ

tujhe koi aur bhi chaahe,es baat se dil thodaa thodaa jaltaa hai,

par phakhar hai mujhe es baat pe ki,har koi meri pasand par martaa hain


Ishq Shayari In Hindi




खबर क्या थी होठों को सीना पड़ेगा

मोहब्बत छुपाकर भी जीना पड़ेगा

जिये तो मगर जिंदगानी पे रोये, रोये

khabar kyaa thi hothon ko sinaa padegaa

mohabbat chhupaakar bhi jinaa padegaa

jiye to magar jindgaani pe roye, roye




वो करते हैं बात इश्क़ की,

पर इश्क़ के दर्द का उन्हें एहसास नहीं,

इश्क़ वो चाँद है जो दिखता तो है सबको,

पर उसे पाना सब के बस की बात नही..!

vo karte hain baat eshk ki,

par eshk ke dard kaa unhen ehsaas nahin,

eshk vo chaand hai jo dikhtaa to hai sabko,

par use paanaa sab ke bas ki baat nahi..!


Shayari In Hindi Font


इतनी बदसलूकी ना कर ऐ जिदंगी,

हम कौन सा यहाँ बार बार आने वाले है,

सुना है जिदंगी इम्तहान लेती है,

यहाँ तो इम्तहानों ने जिदंगी ले रखी है|

etni badasluki naa kar ai jidangi,

ham kaun saa yahaan baar baar aane vaale hai,

sunaa hai jidangi emthaan leti hai,

yahaan to emthaanon ne jidangi le rakhi hai|





आँखों से आंसू भी न निकले और नमी भी है…

उनकी याद भी साथ है और तन्हाई भी है…

सांस तो साथ है मगर जिन्दगी नहीं…

हर सांस मे तू रहती भी है और तेरी कमी भी है…

aankhon se aansu bhi n nikle aur nami bhi hai…

unki yaad bhi saath hai aur tanhaai bhi hai…

saans to saath hai magar jindgi nahin…

har saans me tu rahti bhi hai aur teri kami bhi hai…


हिंदी में इश्क़ शायरी


एक अजीब सा मंजर नज़र आता है,

हर एक आँसूं समंदर नज़र आता हैं,

कहाँ रखूं मैं शीशे सा दिल अपना,

हर किसी के हाथ मैं पत्थर नज़र आता हैं|

ek ajib saa manjar njar aataa hai,

har ek aansun samandar njar aataa hain,

kahaan rakhun main shishe saa dil apnaa,

har kisi ke haath main patthar njar aataa hain|



मेरी वफ़ा की कदर ना की,

अपनी पसंद पे तो ऐतबार किया होता,

सुना है वो उसकी भी ना हुई,

मुझे छोड दिया था उसे तो अपना लिया होता|

meri vfaa ki kadar naa ki,

apni pasand pe to aitbaar kiyaa hotaa,

sunaa hai vo uski bhi naa hui,

mujhe chhod diyaa thaa use to apnaa liyaa hotaa|


इश्क़ शायरी - Ishq Shayari in Hindi


भले ही किसी गैर की जागीर थीं वो,

पर मेरे ख्वाबों की भी तस्वीर थीं वो,

मुझे मिलती तो कैसे मिलती,

किसी और की हिस्से की तक़दीर थीं वो|

bhale hi kisi gair ki jaagir thin vo,

par mere khvaabon ki bhi tasvir thin vo,

mujhe milti to kaise milti,

kisi aur ki hisse ki tkdir thin vo|



मिट्टी मेरी कब्र से चुरा रहा है कोई,

मर कर मेरे दिल बहुत याद आ रहा है कोई,

एक पल की ज़िन्दगी और देदे ऐ खुदा,

मायूस मेरी कब्र से जा रहा है कोई

mitti meri kabr se churaa rahaa hai koi,

mar kar mere dil bahut yaad aa rahaa hai koi,

ek pal ki jindgi aur dede ai khudaa,

maayus meri kabr se jaa rahaa hai koi|


इश्क मोहब्बत की शायरी


दो कदम तो सब चल लेते हैं पर ,

ज़िन्दगी भर साथ कोई नहीं निभाता ,

अगर रो कर भूल जाती यादें ,

तो हस कर कोई गम न छुपाता .

do kadam to sab chal lete hain par ,

jindgi bhar saath koi nahin nibhaataa ,

agar ro kar bhul jaati yaaden ,

to has kar koi gam n chhupaataa .



बहुत आसान है जमाने में जनम लेना,

बड़ी मुश्किल है एक उम्र तक जीवन जीना,

हम तो खामोश हैं तेरी ही खामोशी से,

तुमसे ही सीखा है हमने आंसू पीना..

bahut aasaan hai jamaane men janam lenaa,

badi mushkil hai ek umr tak jivan jinaa,

ham to khaamosh hain teri hi khaamoshi se,

tumse hi sikhaa hai hamne aansu pinaa..



आज भीगी है पलके किसी की याद में

आकाश भी सिमट गया हैं अपने आप में

ओस की बूँद ऐसी गिरी है ज़मीन पर

मानो चाँद भी रोया हो उनकी याद में.…

aaj bhigi hai palke kisi ki yaad men

aakaash bhi simat gayaa hain apne aap men

os ki bund aisi giri hai jmin par

maano chaand bhi royaa ho unki yaad men.…



बादलों से कह दो,

जरा सोच समझ के बरसे,

अगर हमें उसकी याद आ गई,

तो मुकाबला बराबरी का होगा

baadlon se kah do,

jaraa soch samajh ke barse,

agar hamen uski yaad aa gayi,

to mukaablaa baraabri kaa hogaa|



याद मीठी सी दिलाकर चले गए ! 

दिल हमारा साथ उठा कर चले गए !! 

सबे महफिल देखती ही रह गई ! 

वो मस्त ऑखों से पिलाकर चले गए !!

yaad mithi si dilaakar chale gaye ! 

dil hamaaraa saath uthaa kar chale gaye !! 

sabe mahaphil dekhti hi rah gayi ! 

vo mast aukhon se pilaakar chale gaye !!


जिन्हीने बदली थी हमारे ख्वाइशों की जिंदगी..

आज वहो बदले बदले नज़र आते है..

उड़ गए उन परिंदों का मलाल क्या करे..

जब अपने भी औरो की छत पर नज़र आते है..

रातो के ख्वाबो का इंतजार क्या करू..

जब दिन मै भी डरावने सपने आत्ते है..

jinhine badli thi hamaare khvaaeshon ki jindgi..

aaj vaho badle badle njar aate hai..

ud gaye un parindon kaa malaal kyaa kare..

jab apne bhi auro ki chhat par njar aate hai..

raato ke khvaabo kaa entjaar kyaa karu..

jab din mai bhi daraavne sapne aatte hai..


एक अरसा बीत गया..खुलकर मुस्कुराए हुए..

एक अरसा बीत गया..गीत कोई गाए हुए..

मेरी नज़रों को तेरा इन्तज़ार आज भी है..

एक अरसा बीत गया..कोई रिश्ता नया बनाए हुए..

ek arsaa bit gayaa..khulakar muskuraaa hua..

ek arsaa bit gayaa..git koi gaaa hua..

meri najron ko teraa entajaar aaj bhi hai..

ek arsaa bit gayaa..koi rishtaa nayaa banaaa hua..


इस दिल को किसी की आहट की आस रहती है,

निगाह को किसी सूरत की प्यास रहती है,

तेरे बिना जिन्दगी में कोई कमी तो नही,

फिर भी तेरे बिना जिन्दगी उदास रहती है॥

es dil ko kisi ki aahat ki aas rahti hai,

nigaah ko kisi surat ki pyaas rahti hai,

tere binaa jindgi men koi kami to nahi,

phir bhi tere binaa jindgi udaas rahti hai॥


बिछड़ गए हैं जो उनका साथ क्या मांगू;

ज़रा सी उम्र बाकी है इस गम से निजात क्या मांगू;

वो साथ होते तो होती ज़रूरतें भी हमें;

अपने अकेले के लिए कायनात क्या मांगू।

bichhd gaye hain jo unkaa saath kyaa maangu;

jraa si umr baaki hai es gam se nijaat kyaa maangu;

vo saath hote to hoti jrurten bhi hamen;

apne akele ke lia kaaynaat kyaa maangu।


चुपके चुपके कोई गम का खाना हम से सीख जाये;

जी ही जी में तिलमिलाना कोई हम से सीख जाये;

अब्र क्या आँसू बहाना कोई हमसे सीख जाये;

बर्क क्या है तिलमिलाना कोई हम से सीख जाये।

chupke chupke koi gam kaa khaanaa ham se sikh jaaye;

ji hi ji men tilamilaanaa koi ham se sikh jaaye;

abr kyaa aansu bahaanaa koi hamse sikh jaaye;

bark kyaa hai tilamilaanaa koi ham se sikh jaaye।


तुझे अपना बनाने की हसरत थी,

जो बस दिल में ही रह गयी;

चाहा था तुझे टूट कर हमने;

चाहत थी बस चाहत बन कर रह गयी।

tujhe apnaa banaane ki hasarat thi,

jo bas dil men hi rah gayi;

chaahaa thaa tujhe tut kar hamne;

chaahat thi bas chaahat ban kar rah gayi।


Tag: Ishq Shayari 2021, Shayari on ishq, Shayari on ishq

Post a Comment

0 Comments